Photo Gallery

Photo Gallery: साइंस कालेज दुर्ग में जीएसटी पर केंद्रित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का उद्घाटन जीएसटी सही अर्थो में भारत का आर्थिक एकीकरण-विंध्यराज

 

साइंस कालेज दुर्ग में जीएसटी पर केंद्रित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का उद्घाटन जीएसटी सही अर्थो में भारत का आर्थिक एकीकरण-विंध्यराज


Venue : Govt. V.Y.T. PG Autonomous College, Durg
Date : 08/02/2018
 

Story Details

जीएसटी लागू होने से सही अर्थो में भारत के आर्थिक एकीकरण की अवधारणा को बल मिला है । यह एकमात्र ऐसा कानून है जो सम्पूर्ण भारत में लागू है । ये उद्गार स्टेट टैक्स, दुर्ग कार्यालय के संयुक्त आयुक्त श्री पी एस विंध्यराज ने आज शास. विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में  व्यक्त किये । श्री पी.एस.विंध्यराज सयुक्त कमिशनर राज्य कर आज महाविद्यालय के वाणिज्य एवं प्रबंधन तथा अर्थशास्त्र विभाग द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला में बड़ी संख्या में उपस्थित प्राध्यापकों, शोधार्थियों एवं छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे । महाविद्यालय के ग्रंथालय भवन के प्रथम तल पर स्थित रवीन्द्र नाथ टैगोर सभागार में ’’भारत में कर सुधार का प्रभाव’’ जी एसटी के संदर्भ में  इस विषय पर आयोजित राष्ट्रीय कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में श्री विंध्यराज ने कहा कि पूर्व में लागू 17 प्रकार के टैक्स समाप्त कर एक राष्ट्र एक कर, एक बाजार प्रणाली लागू की गई है । पहले राज्य व केन्द्र सरकार में पृथक-पृथक कर प्रणाली थी । व्यवसायियों की परेशानी को ध्यान में रखकर संविधान में संशोधन किया गया तथा 01 जुलाई 2017 से नई जीएसटी प्रणाली लागू हुई । इसके दूरगामी सुखद परिणाम सामने आयेंगे एैसी आशा है । जीएसटी लागू करने का मुख्य उद्देश्य व्यवसाय का सरलीकरण तथा सरकार के राजस्व में वृद्धि करना है । प्रत्येक उपभोक्ता को विक्रेता से सदैव पक्का बिल मांगकर समुचित करों का भुगतान करना चाहिये । एकत्रित करों के माध्यम से ही देश की अनेक विकास योजनाएं क्रियान्वित हो पाती हैं ।
कार्यक्रम की संचालक अर्थशास्त्र की प्राध्यापक डाॅ. के पदमावती ने अतिथियों का परिचय कराते हुए कार्यशाला की विषयवस्तु पर प्रकाश डाला । कार्यशाला के संयोजक वाणिज्य के विभागाध्यक्ष डाॅ. ओ. पी. गुप्ता ने जीएसटी के मूलभूत सिद्धान्त एवं उसकी महत्ता का विस्तार से विश्लेषण किया । सरस्वती पूजन के साथ आरंभ हुई कार्यशाला में अतिथियों का पुष्प गुच्छ से स्वागत करने वालों में डाॅ. ओ. पी. गुप्ता, डाॅ. एस. एन. झा, डाॅ. एच. पी. सिंह सलूजा, डाॅ. शिखा अग्रवाल तथा डाॅ. एस. आर. ठाकुर शामिल थे । अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य डाॅ. एम. ए. सिद्धिकी ने कार्यशाला के उद्देश्यों का वर्तमान समय में प्रासंगिकता पर बल देते हुए कहा कि हम सभी को जीएसटी से जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने का प्रयास करना चाहिये । उद्घाटन समारोह के अंत में धन्यवाद ज्ञापन डाॅ. शिखा अग्रवाल ने किया ।
कार्यशाला के द्वितीय सत्र में स्टेट टैक्स विभाग दुर्ग के सहायक आयुक्त दुर्गेश पाण्डेय ने पावर प्वाइंट प्रस्तुतिकरण के माध्यम से जीएसटी से जुड़े, पहलुओं का गहराई से विश्लेषण किया । अपने रोचक व्याख्यान में श्री दुर्गेश पाण्डेय ने बताया कि 01 जुलाई 2017 से लागू जीएसटी कर प्रणाली ने देश में एक नई क्रांति ला दी है । युवाओं से लेकर वृद्धों तक सभी के मन में इसको लेकर जिज्ञासा है । संविधान के 101 वें संशोधन से जीएसटी लागू हुआ है । जीएसटी के प्रकारों में केन्द्र राज्य, क्षतिपूर्ति जीएसटी लागू हैं । प्रारंभिक  दौर में राज्यों को पूर्व में मिलने वाले टैक्स राशि की प्रतिपूर्ति 03 वर्षो तक केन्द्र द्वारा की जावेगी । संविधान के अनुछेद 366(12 ।) में संशोधन किया गया है ।
श्री पाण्डेय के व्याख्यान के पश्चात् तृतीय तकनीकी सत्र में प्रश्नोत्तरी के दौरान 200 से अधिक प्रतिभागियों ने जीएसटी से संबंधित अनेक प्रश्न पूछकर अपनी जिज्ञासा का समाधान किया, प्रतिभागियों द्वारा पूछे गये प्रश्नों में जीएसटी क्या है ? जीएसटी की आवश्यकता क्यों ? जीएसटी के फायदे क्या हैं? जीएसटी का व्यवसाय पर प्रभाव? आम लोगों पर जीएसटी का प्रभाव तथा वास्तविक में जीएसटी कर प्रणाली कितनी सफल जैसे प्रश्न शामिल थे ।
कल कार्यशाला के दूसरे दिन श्री पारितोष गुरू, सहायक आयुक्त स्टेट टैक्स दुर्ग का आमंत्रित व्याख्यान होगा । कार्यशाला के दौरान स्टेट टैक्स दुर्ग कार्यालय के उपायुक्त श्री आर. के. मिश्रा, श्रीमती अंजु कुमार सहायक आयुक्त भी उपस्थित थे । संयोजक डाॅ. ओ. पी. गुप्ता ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किया । कार्यशाला में उपस्थित प्रमुख प्रतिभगियों में शास. महा.बोरी के प्राचार्य डाॅ. आनंद विश्वकर्मा, डाॅ. वैदेही शर्मा, डाॅ. मंजूलाता साव, डाॅ. सुमीत अग्रवाल, गल्र्स कालेज दुर्ग के डाॅ. के एल. राठी, डाॅ. शशि कश्यप, डाॅ. सीमा अग्रवाल, उतई कालेज के डाॅ. शुभा शर्मा, कल्याण कालेज के डाॅ. हरीश कश्यप, राजनांदगांव से डाॅ. माखीजा, डाॅ. भाटिया, धमधा से डाॅ. मेश्राम, अर्जुन्दा कालेज से डाॅ. द्विवेदी, डाॅ. रजनीश तिवारी, डाॅ. नरेश दीवान, डी. बी. गल्र्स कालेज रायपुर से डाॅ. रश्मि दुबे, डाॅ. प्रेमलता तिवारी, वैशालीनगर कालेज से डाॅ. रविन्दर छाबड़ा, डाॅ. मेरिलीराय, डाॅ. रीतेश अग्रवाल, तामस्कर महाविद्यालय के डाॅ. एल. के. भारती, डाॅ. ए. के. खान, डाॅ. अंशुमाला चन्दनगर, डाॅ. सविता डहरिया, डाॅ. मीता चक्रवर्ती, डाॅ. कमरतलत, डाॅ. मर्सी जार्ज, डाॅ. सपना शर्मा, डाॅ. प्रशांत श्रीवास्तव, डाॅ. सुचित्रा शर्मा, डाॅ. कल्पना अग्रवाल तथा डाॅ. अश्विनी महाजन आदि उपस्थित थे ।

साइंस कालेज दुर्ग में जीएसटी पर केंद्रित तीन दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला का उद्घाटन जीएसटी सही अर्थो में भारत का आर्थिक एकीकरण-विंध्यराज Photos