Photo Gallery

Photo Gallery: साइंस कालेज दुर्ग में इंस्पायर साइंस कैम्प का अंतिम दिन होनहार बच्चों, आप भारत की पहचान हो - माननीय श्री शेखर दत्त जी

 

साइंस कालेज दुर्ग में इंस्पायर साइंस कैम्प का अंतिम दिन होनहार बच्चों, आप भारत की पहचान हो - माननीय श्री शेखर दत्त जी


Venue : Govt. V.Y.T. PG Autonomous College, Durg
Date : 28/11/2017
 

Story Details

इंस्पायर कैम्प के अंतिम दिन, प्रथम सत्र में शांति स्वरूप भटनागर अवार्ड प्राप्त 
डाॅ. अमिताभ चट्टोपाध्याय जी एवं डाॅ. पाॅल का व्याख्यान हुआ, जिसमें डाॅ. अमिताभ चट्टोपाध्याय जी ने फ्लोरोसेंस के मूल सिध्दांत एवं उनकी दैनिक जीवन में उपयोगिता पर महत्वपूर्ण व्याख्यान दिया। इंस्पायर के विद्यार्थियों ने अपनी जिज्ञासा को प्रश्न पूछकर शांत किया। सभी के उत्तर सहज और सरल तरीके से दिए गए एवं डाॅ. पाल ने गणित विषय पर अपना रोचक व्याख्यान दिया। 
इंस्पायर कैम्प के समापन समारोह में मुख्य अतिथि पूर्व राज्यपाल माननीय श्री शेखर दत्त जी एवं अध्यक्ष पंडित रविशंकर विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ. एस.के. पाण्डेय एवं अन्य अतिथि वैज्ञानिक डाॅ. अमिताभ चट्टोपाध्याय रहे। 
कार्यक्रम का शुभारंभ सरस्वती पूजन के साथ हुआ। सरस्वती वंदना महाविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा की गयी। अतिथियों के स्वागत में विद्यार्थी कु. टेमेश्वरी एवं राहूल द्वारा स्वागत गान प्रस्तुत किया गया। अतिथियों का स्वागत महाविद्यालय के प्राचार्य द्वारा पुष्पगुच्छ से किया गया। मंच का संचालन डाॅ. अनिल कुमार ने किया। उन्होंने इंस्पायर कैम्प का उद्देश्य बताते हुए कहा कि देश में वैज्ञानिकों की कमी और बेसिक साइंस की ओर छात्रों का रूझान कम होने के कारण डीएसटी द्वारा पूरे देश में 100 से अधिक संस्थानों द्वारा यह आयोजन किया जाता है। उन्होंने राज्य के सुदूर क्षेत्रों से आये बच्चों को इस कैम्प का पूरा लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया। पांच दिवसीय इस कार्यक्रम के लिए विशेष रूप से प्राचार्य, डाॅ. राजपूत को श्रेय दिया। प्राचार्य के मागदर्शन में महाविद्यालय द्वारा दो बार इंस्पायर कैम्प का सफल आयोजन हुआ है। इस कैम्प में हुये विभिन्न कार्यक्रमों का संक्षिप्त विवरण दिया गया, जिसमें  211 बच्चें शामिल हुये 105 छात्र, 106 छात्राओं ने अपनी सक्रिय भागीदारी निभायी। 
महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. एस.के. राजपूत ने अपने प्रेरणास्पद उद्बोधन में कहा कि यदि हम इन पांच दिनों में बच्चों की सामाजिक एवं वैज्ञानिक चेतना को थोडा भी जागृत कर सके तो यह इस कार्यक्रम की सफलता होगी। बच्चों को आर्शीवाद स्वरूप शुभकामनायें देते हुए उन्होंने कहा कि जिम्मेदार व अच्छे नागरिक बनकर देश का नाम रौशन करें।
डाॅ. एस.के. पाण्डेय, कुलपति ने इस कार्यक्रम में आमंत्रण के लिए आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे बीच माननीय शेखर दत्त जी जैसी हस्ती का उपस्थित होना सौभाग्य की बात है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रतिभाओं की कमी नही है। जरूरत है तो प्रतिभा का तराशने की और उसे सामने लाने की। इंस्पायर कैम्प द्वारा यह उद्देश्य पूरा हो सकता है। नई ऊंचाईयों को छूने के लिए ऐसे कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों को टर्निंग प्वाइंट मिल सकता है, जो उन्हें अच्छे लक्ष्य की ओर ले जायेगा।
मुख्य अतिथि माननीय श्री शेखर दत्त जी ने अपने संबोधन में कहा कि होनहार बच्चों आप भारतवर्ष की पहचान हो देश के भावी लीडर हो उच्च प्रतिशत लाकर आपने अपनी संस्था एवं परिवार को गौरवांवित किया है। पढ़ने-लिखने का अर्थ है कि हम जिज्ञासु बने कोरबा के एक होनहार छात्र रूपेश भारद्वाज का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि अभावों में साधारण गांव के इस छात्र ने 19 वर्ष की उम्र में पीएचडी हासिल कर कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय तक की यात्रा कर उचाईयों को छूआ है, तो आप ऐसा क्यों नही कर सकते। हमारी प्रतिस्पर्धा स्वयं से होनी चाहिए। अपनी रूचि के अनुसार कार्य करने पर आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और आप अपनी पूरी योग्यता का प्रदर्शन कर सकोगे। तनाव प्रबंधन पर उन्होंने टिप्स दिये कि स्व प्रेरणा से काम करने पर तनाव नही होता। उन्होंने आदर्श के रूप में अंग्रेजी कवि की प्रेरणास्पद पंक्तियां ष्माइल्स टू गो बीफोर आई स्लिपष्३ण् दोहरायी। 
प्राचार्य द्वारा सभी अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। इस इंस्पायर कैम्प के संबंध में आये विद्यार्थियों ने अपना फीडबैक दिया। उन्होंने कहा कि इस कैम्प में हमें अभूतपूर्व अनुभव हुआ है। वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों के महत्वपूर्ण व्याख्यान सुने। महाविद्यालय के प्राचार्य, प्राध्यापक, मार्गदर्शक, सभी से भरपूर सहयोग मिला। इंस्पायर कैम्प के बच्चों ने सरकार से अपील की कि इंस्पायर कैम्प के आयोजन के मध्य कोई भी सरकारी परीक्षा संचालित न की जाये।
कार्यक्रम में बहु विकल्पीय प्रश्न परीक्षा के परिणाम घोषित किये गये। निबंध प्रतियोगिता में प्रथम स्थान यश गर्ग, विश्रामपुर, द्वितीय स्थान सेजल शर्मा भिलाई एवं तृतीय स्थान समीर दास, विश्रामपुर को प्राप्त हुआ। सभी को पूर्व राज्यपाल द्वारा पुरस्कृत किया गया।
सांस्कृतिक संध्या में अपनी प्रस्तुति देने वाले बच्चों को प्राचार्य की तरफ से पुरस्कृत किया गया। आस्था, साक्षी, कमल लालवानी, अर्चना ओझा, कुसुम, दिव्या आदि ने पुरस्कार प्राप्त किया। व्याख्यान के दौरान प्राचार्य द्वारा रसायन विषय पर पूछे गये प्रश्नों के उत्तर देने वाले सभी विद्यार्थियों को पुरस्कार दिया गया। 
इंस्पायर कैम्प के अंत में डाॅ. अजय सिंह ने अतिथि वक्ताओं, पूर्व राज्यपाल, कुलपति 
डाॅ. एस.के. पाण्डेय एवं प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष रूप से इस कैम्प से जुड़े सभी लोगों का आभार व्यक्त किया।

साइंस कालेज दुर्ग में इंस्पायर साइंस कैम्प का अंतिम दिन होनहार बच्चों, आप भारत की पहचान हो - माननीय श्री शेखर दत्त जी Photos