Photo Gallery

Photo Gallery: इंस्पायर प्रोग्राम का रंगारंग समापन - डीएसटी इंस्पायर कैम्प विद्यार्थियों हेतु यज्ञ के समान

 

इंस्पायर प्रोग्राम का रंगारंग समापन - डीएसटी इंस्पायर कैम्प विद्यार्थियों हेतु यज्ञ के समान


Venue : Govt. V.Y.T. PG AUTONOMOUS COLLEGE, DURG
Date : 07/01/2020
 

Story Details

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, नई दिल्ली द्वारा प्रायोजित एवं शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग द्वारा दिनांक 3 से 7 जनवरी 2020 तक आयोजित इंस्पायर साईंस इंटर्नषिप कैम्प यज्ञ के समान है। इसमें प्रत्येेक प्रतिभागी, मेंटर, आयोजक सभी की समान रूप से आहुति आवष्यक है। इसी आहुति के फलस्वरूप हमारे छत्तीसगढ़ अंचल के विद्यार्थियों को विज्ञान विषयों की नवीनतम जानकारी एवं विज्ञान के प्रति अभिरूचि बढ़ेगी। ये उद्गार गंगाजली एजुकेषन सोसायटी के अध्यक्ष श्री आई.पी. मिश्रा ने आज शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में व्यक्त किये। श्री मिश्रा इंस्पायर साईंस कैम्प के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बड़ी संख्या में उपस्थित प्रतिभागी विद्यार्थियों, प्राध्यापकों, प्रभारी षिक्षकों एवं गणमान्य नागरिकों को संबोधित कर रहे थे। छत्तीसगढ़ अंचल के विद्यार्थियों की दक्षता एवं उनकी सादगी का उल्लेख करते हुए श्री आई.पी. मिश्रा ने कहा कि इंस्पायर प्रोग्राम विद्यार्थियों में नई ऊर्जा के संचार के साथ-साथ साम्प्रदायिक सौहार्द्र की भावना भी विकसित करता है। साईंस कालेज, दुर्ग की इंस्पायर कैम्प आयोजन समिति की प्रषंसा करते हुए श्री आई.पी. मिश्रा ने कहा कि शालेय विद्यार्थियों हेतु इतना उच्च स्तरीय एवं ज्ञानवर्धक कार्यक्रम का आयोजन सराहनीय है। 
इससे पूर्व कार्यक्रम में विषिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित श्रीमती प्रीति मिश्रा ने इंस्पायर कैम्प को विद्यार्थियों की अध्ययन यात्रा में मील का पत्थर करार दिया तथा विद्यार्थियों के हित में अन्य महाविद्यालयों में भी इस प्रकार के आयोजन किए जाने की बात कही। कार्यक्रम के आरंभ में इंस्पायर साईंस कैम्प के सहायक समन्वयक डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए बताया कि 5 दिवसीय इंस्पायर कैम्प में देष के चुनिंदा 15 वैज्ञानिकों के व्याख्यान तथा 5 प्रायोगिक सत्र आयोजित किए गए। डाॅ. श्रीवास्तव ने इंस्पायर साईंस कैम्प की अवधारणा पर भी प्रकाष डाला। महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में उपस्थित विद्यार्थियों से कहा कि इंस्पायर कैम्प का समापन हो रहा है, परंतु यह महाविद्यालय विद्यार्थियों की समस्यायें सुलझाने हेतु सदैव सहयोग करेगा। छत्तीसगढ़ के दूरस्थ अंचलों के विद्यार्थियों को यदि कोई अध्ययन संबंधी आवष्यकता हो तो वे अपने प्राचार्य के माध्यम से साईंस कालेज, दुर्ग प्रबंधन को सूचित कर उसका निराकरण का प्रयत्न कर सकते है। 
इंस्पायर साईंस कैम्प के सहायक समन्वयक डाॅ. अनिल कुमार ने कैम्प के दौरान आयोजित विषय-विषेषज्ञों एवं उनके व्याख्यान के विषयों की विस्तृत जानकारी प्रदान करते हुए बताया कि प्रायोगिक कार्यों के दौरान विद्यार्थियों को भौतिक, रसायन, गणित, वनस्पति शास्त्र, प्राणीषास्त्र, माइक्रोबायलाॅजी, बायोटेक्नालाॅजी, भूगर्भषास्त्र विषयों के नवीनतम जानकारी प्रदान की गयी। रायपुर स्थित साईंस सेंटर में विद्यार्थियों ने अपने पाठ्यक्रम से संबंधित प्रयोगों को स्वयं भौतिक रूप से संपादित कर देखा। अपने संबोधन में इंस्पायर कैम्प के सहायक समन्वयक डाॅ. अजय सिंह ने इन 5 दिनों में इंस्पायर कैम्प के प्रतिभागियों एवं महाविद्यालय प्रबंधन के बीच आपसी बंध स्थापित हो जाने की बात कहते हुए बताया कि बीते वर्षों में आयोजित हुए इंस्पायर कैम्प के अधिकांष प्रतिभागियों ने विज्ञान संकाय के विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेष लेकर डीएसटी इंस्पायर कार्यक्रम की सार्थकता सिध्द की है। 
इससे पूर्व माता सरस्वती की पूजन एवं सरस्वती वंदना के साथ आरंभ हुए इंस्पायर कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत डाॅ. अनुपमा अस्थाना, प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह, डाॅ. सपना शर्मा, डाॅ. अनिल कुमार, डाॅ. अजय सिंह, डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने किया। सरस्वती वंदना एवं छत्तीसगढ़ के राज्य गीत अरपा पैरी के धार की प्रस्तुति महाविद्यालय की छात्राओं कु. श्रुति, पूजल, अभिलाषा, मृदुला तथा भारतीय ने दी। समापन समारोह में उत्कृष्ट सांस्कृतिक प्रस्तुति के लिए छू लो आसमान विद्यालय दंतेवाड़ा की कु. रोषनी विष्वकर्मा को सम्मानित किया गया वहीं सामूहिक प्रस्तुति की उत्कृष्टता के लिए छू लो आसमान विद्यालय की समस्त प्रतिभागी छात्राओं को पुरस्कृत किया गया। समापन समारोह में प्रतिभागी विद्यार्थियों रोषनी विष्वकर्मा, धीरज कुमार ने अपने संस्मरण सुनाये वहीं डीएवी पब्लिक स्कूल हुडको की षिक्षक जया चैबे ने अपनी प्रतिक्रिया में इंस्पायर कैम्प को विद्यार्थियों के लिए अत्यंत लाभप्रद बताया। समारोह में मौलिक वैज्ञानिक अवधारणा के लिए सर्वश्रेष्ठ 10 विद्यार्थियों हरिओम मरावी, कु. तेजिस्वनी साहू, रोहित वैष्णव, ओंकार वर्मा, भूमिका धु्रव, मोनिका भवानी, आयुष वर्मा, नीलकंठ यादव, चांदनी साहू तथा आषुतोष सिंह को पुरस्कृत किया गया। प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने समापन समारोह में उपस्थित अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदान किए। 
आज प्रातः कालीन सत्र में आयोजित प्रथम व्याख्यान में डाॅ. धीरज कुमार ने टीबी की बिमारी एवं उसके बचाव पर पावर प्वाइंट प्रस्तुति के माध्यम से जानकारी दी। डाॅ. धीरज कुमार ने कहा कि एंटी बायोटिक दवाईयों को सदैव डाॅक्टर की सलाह एवं पर्ची के आधार पर ही लेना चाहिए। ग्रामीण अंचलों एवं अन्य क्षेत्रों में भी लोग मेडिकल स्टोर्स में जाकर बिना चिकित्सकीय सलाह के एंटी बायोटिक दवाईयां खरीद कर उपयोग करते है, यह उनके स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव डालता है, क्योंकि किसी भी बिमारी के बैक्टीरिया का जीवन काल एवं उसकी दवाईयों से लड़ने की क्षमता का ज्ञान होना आवष्यक है। इसी आधार पर चिकित्सक मरीज को दवाईयां देते है। डाॅ. धीरज कुमार ने यह भी बताया कि हमें चिकित्सक द्वारा लिखी गयी अवधि तक दवाईयों का पूर्ण कोर्स करना चाहिए। बीच में दवाई बंद कर देने पर बैक्टीरिया पुनः जीवित हो जाते है। 
आज आयोजित द्वितीय व्याख्यान में भारतीय सांख्यिकीय संस्थान, नई दिल्ली के डाॅ. आर.बी. बापट ने ग्राफ थ्योरी के उपयोगिता एवं गणित में उसके महत्व पर रोचक जानकारी दी। डाॅ. बापट के व्याख्यान के दौरान विद्यार्थियों ने गणित के जटिल प्रष्नों को हल करने के तरीको के विषय में जानकारी चाही। डाॅ. बापट ने सांख्यिकीय एवं गणित विषयों के आपसी सहसंबंध का विष्लेषण करते हुए बताया कि जितना ज्यादा विद्यार्थी गणित विषय के प्रष्नों को हल करने का लिखित अभ्यास करेंगे, उन्हंे उतनी ज्यादा सफलता प्राप्त होगी। डाॅ. बापट के व्याख्यान की विद्यार्थियों ने सराहना की।

इंस्पायर प्रोग्राम का रंगारंग समापन - डीएसटी इंस्पायर कैम्प विद्यार्थियों हेतु यज्ञ के समान Photos