Photo Gallery

Photo Gallery: साईंस कालेज दुर्ग में नैक की नई मूल्यांकन पध्दति पर दो दिवसीय कार्यषाला आयोजित

 

साईंस कालेज दुर्ग में नैक की नई मूल्यांकन पध्दति पर दो दिवसीय कार्यषाला आयोजित


Venue : Govt. V.Y.T. PG AUTONOMOUS COLLEGE, DURG
Date : 25/10/2019
 

Story Details

साईंस कालेज दुर्ग में नैक की नई मूल्यांकन पध्दति पर दो दिवसीय कार्यषाला आयोजित  

शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद नैक बंगलौर द्वारा जारी नई मूल्यांकन पध्दति पर दो दिवसीय कार्यषाला का आयोजन महाविद्यालय आईक्यूएसी द्वारा किया गया। यह जानकारी देते हुए महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह तथा आईक्यूएसी की संयोजक डाॅ. जगजीत कौर सलूजा ने संयुक्त रूप से बताया कि इस कार्यषाला में महाविद्यालय के समस्त विभागाध्यक्षों, प्राध्यापकों एवं सहायक प्राध्यापकों के साथ-साथ शंकराचार्य महाविद्यालय जुनवानी की प्राचार्य डाॅ. रक्षा सिंह एवं सहायक प्राध्यापकों ने हिस्सा लिया। इस कार्यषाला के शुभारंभ अवसर पर प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने अपने संबोधन में नैक की नई मूल्यांकन प्रणाली के महत्व एवं उसकी आवष्यकता पर विस्तार से प्रकाष डाला। डाॅ. सिंह ने कहा कि षिक्षकों का कार्य अध्यापन के साथ-साथ विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास तथा समाज में रचनात्मक वातावरण तैयार करना है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में प्रतिस्पर्धा के युग में हमें ऐसे विद्यार्थी तैयार करना है, जो स्थानीय से लेकर विष्व स्तर तक की स्पर्धाओं में श्रेष्ठ प्रदर्षन कर सकें। डाॅ. सिंह ने केवल नौकरी को ही आधार न मानने की सलाह देते हुए कहा कि स्वरोजगार एवं श्रेष्ठ नागरिक बनने हेतु भी हम सबको विद्यार्थियों को तैयार करना है। 
महाविद्यालय आईक्यूएसी के सदस्य एवं भूगर्भषास्त्र के सहायक प्राध्यापक डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने कार्यषाला के दोनों दिवसों में पावर प्वाइंट प्रस्तुति के माध्यम से नैक की नई मूल्यांकन पध्दति एवं उससे जुड़े 07 प्रमुख बिन्दुओं पर विस्तार से प्रकाष डाला। डाॅ. श्रीवास्तव ने बताया कि नैक की नई पध्दति में 1000 अंकों की कुल मूल्यांकन अंकों में से महाविद्यालय 50 अंकों के प्रष्न अपनी आवष्यकतानुसार विलोपित कर सकते है। इस प्रकार महाविद्यालयों का मूल्यांकन 950 अंकों में से किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि नैक ने विद्यार्थियों से जुड़े हर मुद्दे को महत्व देते हुए महाविद्यालय प्रषासन एवं षिक्षकों को उत्तरदायी मानते हुए प्रत्येक घटनाक्रम अथवा गतिविधि का दस्तावेज सहित प्रमाण मांगा है। अतः महाविद्यालय की हर गतिविधि का अच्छी तरह दस्तावेजीकरण आवष्यक है। नैक मूल्यांकन हेतु प्रथम चरण में पंजीकरण, द्वितीय चरण में आईआईक्यूए आवेदन नैक को भेजना, तृतीय चरण में सेल्फ स्टडी रिपोर्ट तैयार कर नैक को भेजना तथा चतुर्थ चरण में महाविद्यालय में नैक विषेषज्ञों की टीम का आगमन एवं पांचवे चरण में नैक मुख्यालय द्वारा महाविद्यालय को ग्रेड आबंटन की प्रक्रिया शामिल है। 
डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने अपने प्रस्तुतिकरण के दौरान बताया कि महाविद्यालय द्वारा भेजे गये हर डाटा के सत्यापन हेतु नैक ने नयी पध्दति डाटा वरिफिकेषन तथा वेलिडेषन आरंभ की है। इसके अंतर्गत प्रत्येक महाविद्यालय के आंकड़ों का सत्यापन नैक द्वारा नियुक्त एनजीओ डीवीवी पाटर्नर द्वारा किया जावेगा। इसी प्रकार महाविद्यालय से संबंधित विद्यार्थियों का दृष्टिकोण जानने के लिए नैक द्वारा महाविद्यालय की कुल छात्र संख्या के 10 प्रतिषत विद्यार्थियों से ईमेल द्वारा संपर्क स्थापित कर उनसे जानकारी मांगी जायेगी। इन प्रमुख बिंदुओं के अलावा महाविद्यालय के पठन-पाठन, पाठ्यक्रम, उपलब्ध संसाधन, छात्रों का विकास, अधोसंरचना, प्रबंधन की कार्यप्रणाली तथा दो बेस्ट प्रेक्टिस से जुड़े लगभग 140 प्रष्न युक्त सेल्फ स्टडी रिपोर्ट तैयार कर महाविद्यालय को नैक को आॅनलाईन रूप से भेजना अनिवार्य है। कार्यषाला में उपस्थित प्राध्यापकों डाॅ. शकील हुसैन, डाॅ. व्ही.एस.गीते, डाॅ. विनोद अहिरवार, डाॅ. अनुपमा कष्यप, डाॅ. ओ.पी. गुप्ता आदि ने प्रष्न पूछकर अपनी जिज्ञासा को शांत किया। प्राध्यापकों के अनेक प्रष्नों के उत्तर प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह एवं डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने दिये। कार्यषाला के अंत में धन्यवाद ज्ञापन आईक्यूएसी संयोजक डाॅ. जगजीत कौर सलूजा ने दिया। इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए शंकराचार्य कालेज, जुनवानी की प्राचार्य डाॅ. रक्षा सिंह ने कार्यषाला को अत्यंत उपयोगी बताते हुये कहा कि इस प्रकार अग्रणी महाविद्यालय के सहयोग से छोटे तथा निजी महाविद्यालयों को काफी लाभ होता है। शंकराचार्य कालेज, के अतिरिक्त निदेषक जे.दुर्गाप्रसाद राव ने भविष्य में भी इसी प्रकार के रचनात्मक मार्गदर्षन हेतु साईंस कालेज, दुर्ग के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह से आग्रह किया। 

साईंस कालेज दुर्ग में नैक की नई मूल्यांकन पध्दति पर दो दिवसीय कार्यषाला आयोजित Photos