Photo Gallery

Photo Gallery: साइंस कालेज, दुर्ग में दो दिवसीय सिम्पोजिया कार्यक्रम का समापन सफलता के लिये धन व साधन से ज्यादा लगन की जरूरत

 

साइंस कालेज, दुर्ग में दो दिवसीय सिम्पोजिया कार्यक्रम का समापन सफलता के लिये धन व साधन से ज्यादा लगन की जरूरत


Venue : Govt. V.Y.T. PG AUTONOMOUS COLLEGE, DURG
Date : 20/02/2019
 

Story Details

साइंस कालेज, दुर्ग में दो दिवसीय सिम्पोजिया कार्यक्रम का समापन
सफलता के लिये धन व साधन से ज्यादा लगन की जरूरत 
साइंस कालेज में आयोजित दो दिवसीय सिंपोजिया के समापन समारोह में मुख्य अतिथि डाॅ. एम. के. वर्मा कुलपति छ.ग. स्वामी विवेकानंद तकनीकी विष्वविद्यालय एवं अध्यक्ष डाॅ. राजेष पाण्डेय - कुलसचिव हेमचंद यादव विष्वविद्यालय, दुर्ग रहे। महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. एम.ए. सिद्दीकी ने अतिथि का स्वागत करते हुये कहा - श्यह आयोजन साइंस को प्रोत्साहित करने व पाॅपुलर बनाने में कामयाब होगा। इस कार्यक्रम में विभिन्न महाविद्यालय से आये विद्यार्थियों को उन्होंने बधाई व शुभकामनायें देते हुये कहा कि विषेष रूप से भूगोल व गणित की भागीदारी ने इस कार्यक्रम को और भी सफल बनाया। उन्होंने अतिथियोें का हदय से आभार व्यक्त किया। 
मुख्य अतिथि डाॅ. एम.के. वर्मा ने छात्रों को प्रेरित करते हुये कहा- श्व्यक्ति जैसा सोचता है, वैसा करने लगता है और वैसा बन जाता हैश् साइंस की सभी ब्रांच में गणित की अहमियत सबसे ज्यादा है यह विज्ञान को तकनीकी उपयोग के योग्य बनाता है। इस आयोजन के लिये महाविद्यालय के प्राचार्य को बधाई दी। छत्तीसगढ़ की प्रषंसा करते हुये उन्होंने कहा - साइंस और टेक्नोलाॅजी में हमारा प्रदेष अन्य से बेहतर है। यहां के दो वैज्ञानिक चन्द्रयान मिषन व मंगलयान मिषन में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहे हैं, छात्रों को इनसे प्रेरणा लेनी चाहिये। सफल वैज्ञानिकों की जीवनी पढ़ना चाहिये जिनमेें से अधिकांष की आर्थिक स्थिति कमजोर थी, सफलता के लिये धन और साधन मायने नहीं रखता, जरूरत है ईमानदारी से वैज्ञानिक सोच को विकसित करने की। जब कुछ करने का जज्बा बनता है तो साधन अपने आप जुटने लगते है। साइंस के आधारभूत सिध्दांतों को हमें जीवन में लागू करना होगा। स्मृति चिन्ह के रूप में पुस्तक प्राप्त कर मुख्य अतिथि ने प्रफुल्लित होते हुये कहा कि हर समारोह में इस परंपरा को अपनाना चाहिये। 
अध्यक्षता कर रहे कुलसचिव डाॅ. राजेष पाण्डेय ने कहा छत्तीसगढ़ तेजी से विकसित हो रहा है इसके साथ हमें यहां के पर्यावरण को और स्वस्थ और सतत बनाये रखने के लिये रिसर्च पर ध्यान देना होगा। पर्यावरण संबंधी समस्या के निराकरण के लिये युवाओें को शोध करने हेतु प्रोत्साहित किया एवं कहा कि विष्वविद्यालय रिसर्च के लिये पूर्ण सहयोग करेगा। रिसर्च सेन्टर भी बनाये जायेगंे। इस आयोजन के लिये साइंस कालेज दुर्ग के प्रति आभार व्यक्त करते हुये उन्होंने कार्यक्रम की सफलता के लिये बधाई दी। 
आयोजक समिति के सचिव डाॅ. अनिल श्रीवास्तव नेे कहा कि सिंपोजिया के लक्ष्य को भविष्य में भी पूर्ण करने का प्रयास जारी रहेगा। इसमें विद्यार्थियों की सक्रिय भागीदारी रही। अतिथि वक्ताओें के शोध आधारित और वैज्ञानिक सोच से ओतप्रोत व्याख्यानों से विद्यार्थियों को निष्चित रूप से प्रेरणा मिली है। 
आयोजन में पोस्टर प्रेजेंटेषन में प्रथम स्थान शोधार्थी गु्रप में प्रथम स्थान ज्योति पटेल (रसायन) द्वितीय स्थान कु. सुषमा यादव (रसायन), विद्यार्थियों में प्रथम स्थान कु. स्नेहल पिल्लै (माइक्र्रोबायोलाॅजी), द्वितीय - लोकेष एवं समूह (बायोटेक विभाग) तृतीय स्थान हरिषंकर वर्मा एवं गु्रप (कल्याण काॅलेज भिलाई) एवं दामिनी वर्मा गु्रप (शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव) को प्राप्त हुआ। 
मौखिक प्रस्तुतिकरण में रिसर्च गु्रप में प्रथम कु. भावना जैन (रसायन) द्वितीय एकता सिंह (बायोटेक) एवं तृतीय स्थान रोहित राज (बायोटेक विभाग) तथा विद्यार्थी गु्रप में प्रथम कृतिका देवांगन एवं समूह (बायोटेक) द्वितीय राखी अरोरा (माइक्रो बायोलाॅजी) तृतीय स्थान लालचंद एवं समूह (रसायन) को प्राप्त हुआ। माॅडल प्रतियोगिता में प्रथम स्थान गणित विभाग से भूपेन्द्र एवं समूह द्वितीय स्थान माइक्रोबायोलाॅजी जलज एवं समूह तथा महिमा एवं समूह (वनस्पति विभाग) तृतीय स्थान हेमंत एवं समूह (बायोटेक विभाग) को प्राप्त हुआ। 
मौखिक प्रस्तुतिकरण में कुल प्रतिभागी 19 व माॅडल में सात समूहों ने भागीदारी दी। कार्यक्रम में आभार प्रदर्षन डाॅ. अजय सिंह नोडल अधिकारी ने किया। अंत में पुलवाना में हुये शहीदों को श्रध्दांजलि देते हुये 2 मिनट का मौनधारण रखा गया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ। 

साइंस कालेज, दुर्ग में दो दिवसीय सिम्पोजिया कार्यक्रम का समापन सफलता के लिये धन व साधन से ज्यादा लगन की जरूरत Photos