Photo Gallery

Photo Gallery: साइंस कालेज दुर्ग में एनडीआरएफ इंडिया द्वारा आपदा प्रबंधन विषय पर एन.एस.एस एवं एन.सी.सी छात्र-छात्राओं हेतु प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित

 

साइंस कालेज दुर्ग में एनडीआरएफ इंडिया द्वारा आपदा प्रबंधन विषय पर एन.एस.एस एवं एन.सी.सी छात्र-छात्राओं हेतु प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित


Venue : Govt. V.Y.T. PG Autonomous College, Durg
Date : 02/01/2019
 

Story Details

साइंस कालेज दुर्ग में एनडीआरएफ इंडिया द्वारा आपदा प्रबंधन विषय पर एन.एस.एस एवं एन.सी.सी छात्र-छात्राओं हेतु प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित 

शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में एनडीआरएफ इंडिया द्वारा आपदा प्रबंधन विषय पर एन.एस.एस एवं एन.सी.सी छात्र-छात्राओं हेतु प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. एम.ए. सिद्दीकी ने कार्यक्रम के आरंभ में बड़ी संख्या में उपस्थित एन.सी.सी., एन.एस.एस. के कैड्ट्स एवं स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें प्राकृतिक अथवा कृत्रिम आपदाओं के प्रति सदैव सचेत रहने की आवश्यकता है। प्रशिक्षण कार्यक्रम को विद्यार्थियों हेतु लाभप्रद बताते हुए डाॅ. सिद्दीकी ने कहा कि प्रतिभागी विद्यार्थी प्रशिक्षण के दौरान प्राप्त जानकारी को समय आने पर अधिक से अधिक प्रचारित करें तथा किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने हेतु स्वयं एवं अन्य साथियों को तैयार रखने का प्रयास करें। 
प्रशिक्षण कार्यक्रम के संयोजक एवं एन.सी.सी अधिकारी मेजर डाॅ. ओ.पी. गुप्ता ने संचालन करते हुए प्रषिक्षण कार्यक्रम की विषय-वस्तु एवं महत्ता पर प्रकाश डाला। प्रषिक्षण कार्यक्रम के दौरान महाविद्यालय के महिला एन.सी.सी. इकाई की प्रभारी कैप्टन सपना शर्मा, एन.एस.एस. अधिकारी प्रोफेसर जनेन्द्र कुमार दीवान तथा डाॅ. सतीष सेन, डाॅ. लक्ष्मीकांत भारती, श्री अमित मिश्रा आदि ने विद्यार्थियों को आपदा प्रबंधन से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने में मार्गदर्शन दिया। 
इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में एनडीआरएफ बटालियन मुंडाली कटक, उड़ीसा से इंस्पेक्टर अमर नाथ सिंह, सब इंस्पेक्टर अषोक कुमार, विवेक यादव तथा जिला नोडल अधिकारी श्री एस.डी. विश्वकर्मा एवं एसडीआरएफ कंपनी कंमाडर श्री जनक लाल देशमुख आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में एन.एस.एस. एवं एन.सी.सी. के छात्र-छात्राओं को प्राकृतिक आपदाओं से बचने हेतु बहुत से उपाय बताये गये, जिसमें बाढ़, भूकंप अन्य महामारी आर्टिफिशियल आपदा गैस लिकेज के समय बरती जाने वाली सावधानियों तथा उपायों का जिक्र किया गया। इसके साथ ही सर्प द्वारा काटे जाने पर उनसे बचने के उपाय बताये गये। विद्यार्थियों को जानकारी दी गयी कि प्रत्येक सर्प जहरीला नही होता। सर्प की प्रजातियों में से लगभग 15 प्रतिषत सर्प ही अधिक जहरीले होते है। प्रशिक्षण के दौरान विद्यार्थियों ने अनेक प्रश्न पूछकर अपनी जिज्ञासाओं का समाधान किया। कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापन डाॅ. ओ.पी. गुप्ता ने किया। 

साइंस कालेज दुर्ग में एनडीआरएफ इंडिया द्वारा आपदा प्रबंधन विषय पर एन.एस.एस एवं एन.सी.सी छात्र-छात्राओं हेतु प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित Photos