Photo Gallery

Photo Gallery: जेन्डर-समाज ने, समाज के द्वारा, समाज के लिए-बनाई गयी व्यवस्था है-डाॅ. अंजना श्रीवास्तव

 

जेन्डर-समाज ने, समाज के द्वारा, समाज के लिए-बनाई गयी व्यवस्था है-डाॅ. अंजना श्रीवास्तव


Venue : Govt. V.Y.T. PG AUTONOMOUS COLLEGE, DURG
Date : 29/01/2020
 

Story Details

शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग में श्जेण्डर एवं जेण्डर भावश् विषय पर व्याख्यान का आयोजन किया गया है। मुख्य वक्ता के रूप में पुलिस काऊंसलर, लेखिका, कवि, विभिन्न राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित भिलाई की डाॅ. श्रीमती अंजना श्रीवास्तव, आमंत्रित थी उन्होंने श्जेण्डर एवं जेण्डर भावश् पर प्रकाष डालते हुए बताया कि जेण्डर शब्द इसी सामाज की देन है समाज ने समाज के द्वारा एवं समाज के लिए बनाई गयी सामाजिक व्यवस्था है। स्त्री और पुरूष में कोई भेद नही है ये हमारी मानसिकता है, जिसे कपड़े, खिलौने, कार्य तथा व्यवहार से अलग कर रहे है। उन्होंने जेण्डर शब्द को परिभाषित करते हुए कहा कि जेण्डर शब्द स्त्री पुरूष नही बल्कि अंग्रेजी शब्द सेक्स से है, जिससे मनुष्य की पहचान होती है। 
महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंग ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि महिला एवं पुरूष ईष्वर का रूप है। प्राचीनकाल में स्त्री पुरूष में कोई भेद नही था यह मध्यकालीन संस्कृति की देन है। पद्मश्री फूलबासन यादव आज महिला सषक्तिकरण का पर्याय बन गई है। छात्राएॅं किसी भी मायने में अपने को कम न समझे। अपनी विषेषता को पहचानने वाले ही नेतृत्व करते है। 
यह कार्यक्रम महाविद्यालय के इक्कवल अपाच्र्युनिटी एण्ड जेंडर सेन्सिटाइजेषन कमेटी के द्वारा अयोजित किया गया था। कमेटी के संयोजक डाॅ. कमर तलत ने कहा कि जेंडर का संबंध महिला पुरूष के बीच सामाजिक तौर पर होने वाले फर्क से है, जेण्डर हमें सामाजिक भेदभाव को समझने का नजारिया देता है। 
महाविद्यालय के प्राध्यापक डाॅ. सुचित्रा शर्मा ने कार्यक्रम संचालन करते हुए बताया कि जेण्डर सामाजिक सांस्कृतिक संरचना है जो एक गुलदस्ता की तरह होता है। ये ईष्वर की सुंदर कृति है। 
अंत में आभार प्रदर्षन समाज शास्त्र के प्राध्यापक डाॅ. सपना शर्मा ने किया। इस कार्यक्रम में समिति के सदस्य डाॅ. तरलोचन कौर, डाॅ. जी.एस. ठाकुर, डाॅ. प्रज्ञा कुलकर्णी, डाॅ. मीना मान, डाॅ. रचिता श्रीवास्तव, प्रो. जनेन्द्र दीवान तथा बड़ी संख्या में छात्र-छात्राऐं उपस्थित थे। 

जेन्डर-समाज ने, समाज के द्वारा, समाज के लिए-बनाई गयी व्यवस्था है-डाॅ. अंजना श्रीवास्तव Photos