Photo Gallery

Photo Gallery: इंस्पायर प्रोग्राम का रंगारंग उद्घाटन - मानवता के बिना विज्ञान अधूरा

 

इंस्पायर प्रोग्राम का रंगारंग उद्घाटन - मानवता के बिना विज्ञान अधूरा


Venue : Govt. V.Y.T. PG AUTONOMOUS COLLEGE, DURG
Date : 03/01/2020
 

Story Details

डीएसटी इंस्पायर कैम्प का मुख्य उद्देष्य विद्यार्थियों के मन में विचार मंथन तथा विज्ञान के प्रति रूचि जागृत करना है। शालेय स्तर पर विज्ञान की अवधारणाओं को सीखने तथा उनका प्रायोगिक विष्लेषण ही इंस्पायर कैम्प की प्रमुख अवधारणा है। ये उद्गार आई आईटी कानपुर के पूर्व प्राध्यापक एवं डाॅ. हरिसिंह गौर विष्वविद्यालय, सागर के पूर्व कुलपति डाॅ. एन.एस. गजभिये ने आज शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय दुर्ग में व्यक्त किये। डाॅ. गजभिये आज डीएसटी नई दिल्ली द्वारा प्रायोजित 5 दिवसीय इंस्पायर इंटर्नषिप साईंस कैम्प के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप मेें बड़ी संख्या में छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों से पधारे शालेय विद्यार्थियों एवं महाविद्यालय के प्राध्यापकों तथा गणमान्य नागरिकों को संबोधित कर रहे थे। इंस्पायर प्रोग्राम की महत्ता पर प्रकाष डालते हुए डाॅ. गजभिये ने कहा कि विद्यार्थियों को सदैव चिंतन कर किसी भी विषय की गहराई तक पहुंचने का प्रयास करना चाहिए। जब तक हम किसी तथ्य का विष्लेषण नही कर लेते तब तक उस पर विष्वास कर कठिन होता है। 
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हेमचंद यादव विष्वविद्यालय, दुर्ग की कुलपति डाॅ. अरूणा पल्टा ने कहा कि छत्तीसगढ़ अंचल के सर्वश्रेष्ठ महाविद्यालय साइंस कालेज, दुर्ग में इंस्पायर प्रोग्राम का आयोजन हेमचंद यादव विष्वविद्यालय के लिए भी गर्व का विषय है। डाॅ. पल्टा नेे कहा कि विज्ञान के साथ-साथ हम सभी को मानवता एवं नैतिक मूल्यों को सदैव याद रखना चाहिए। छत्तीसगढ़ के दूरस्थ अंचलों से आए शालेय विद्यार्थियों को डाॅ. पल्टा ने सलाह दी कि वे इंस्पायर कैम्प के दौरान प्रायोगिक कक्षाओं में भरपूर रूचि लें। 
प्रसिध्द वैज्ञानिक एवं इंडियन इंस्टीट्यूट आॅफ साईंस से पीएचडी की उपाधि प्राप्त कार्यक्रम के विषिष्ट अतिथि डाॅ. टी.एन. राव ने प्रतिभागी विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि विज्ञान को समझने में भाषा कोई बाधक नही होती। यदि विद्यार्थी में इच्छा शक्ति हो तो वह कठिन से कठिन विषय को आसानी से समझ सकता है। 
इससे पूर्व कार्यक्रम के संचालक एवं इंस्पायर कैम्प के आयोजन समिति के सहायक समन्वयक डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने बताया कि इस इंस्पायर कैम्प में शामिल 200 शालेय विद्यार्थियों में छत्तीसगढ़ प्रदेष के लगभग 15 से अधिक जिलों के शासकीय एवं निजी विद्यालयों के छात्र-छात्रायें शामिल हो रहे है। इन प्रतिभागी विद्यार्थी में 10वीं बोर्ड की परीक्षा में सभी के अंक 85 प्रतिषत से उपर है। महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि देष के ख्याति प्राप्त वैज्ञानिकों के भाषण से हमारे छत्तीसगढ़ अंचल के विद्यार्थी लाभांवित होंगे तथा यह इंस्पायर प्रोग्राम इन विद्यार्थियों में विज्ञान के प्रति रूचि जागृत करने के साथ-साथ अनेक नवीनतम जानकारियां भी उपलब्ध करायेगा। डाॅ. सिंह ने देष के विभिन्न हिस्सों से पधारे विषय-विषेषज्ञों का स्वागत भी किया। डाॅ. सिंह ने केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा विद्यार्थियों हित में चलायी जा रही योजनाआंे का अधिक से अधिक लाभ उठाने का विद्यार्थियों से आग्रह किया। 
इंस्पायर कैम्प के आयोजन समिति के सहायक समन्वयक डाॅ. अनिल कुमार ने इंस्पायर कैम्प के आयोजन के उद्देष्य, महत्ता एवं अगामी 5 दिनों तक आयोजित होने वाली गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी। डाॅ. अनिल कुमार ने बताया कि प्रतिदिन प्रतिभागी विद्यार्थियों को दोपहर 2.00 से 5.00 बजे के मध्य साईंस कालेज की संसाधन युक्त प्रयोगषालाओं में प्रायोगिक कार्य संपादित कराये जायेंगे। रविवार 5 जनवरी को विद्यार्थियों को रायपुर स्थित साईंस सेंटर का भ्रमण भी कराया जायेगा। इंस्पायर कैम्प के एक अन्य सहायक समन्वयक डाॅ. अजय सिंह ने अपने धन्यवाद ज्ञापन में जानकारी दी कि इस वर्ष इंस्पायर कैम्प के दौरान विद्यार्थियों हेतु एक नई प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है, जिसमें विद्यार्थियों को अपने -अपने विचार पर आधारित वैज्ञानिक अवधारणा लिखित रूप से प्रस्तुत करनी होगी। सर्वश्रेष्ठ 10 प्रतियोगी को पुरस्कृत किया जायेगा। 
आज आयोजित प्रथम व्याख्यान में एआरसीआईए हैदराबाद के एसोसिएट डायरेक्टर डाॅ. टी.एन. राव ने नैनो मटेरियल पर अपना आमंत्रित व्याख्यान देते हुए कहा कि नैनो साईंस ने आज इतनी प्रगति कर ली है, कि जीवन के हर क्षेत्र में नैनो साईंस का प्रयोग संभव हो रहा है। नैनो ट्यूब के आविष्कार से लेकर वृहद परमाणु बम तक के यात्रा के अनेक पहलुओं का डाॅ. राव ने गहराई से चित्रण किया। डाॅ. राव के व्याख्यान के दौरान प्रतिभागी शालेय विद्यार्थियों ने अनेक प्रष्न पूछकर अपनी जिज्ञासा का समाधान किया। आज आयोजित द्वितीय व्याख्यान में नागपुर के डाॅ. एन.एस. गजभिये ने मटेरियल साईंस का रसायन में अनुप्रयोग विषय पर महत्वपूर्ण व्याख्यान दिया। अपने रोचक अंदाज में व्याख्यान करते हुए डाॅ. गजभिये ने कहा कि रसायन विषय का जीवन के हर क्षेत्र में महत्व है। प्रातः काल में उठने से लेकर रात्रि में सोने तक हर व्यक्ति अनेक प्रकार की रासायनिक प्रक्रियाओं से गुजरता है तथा रासायनिक उत्पादों का इस्तेमाल करता है। डाॅ. गजभिये के व्याख्यान के दौरान विद्यार्थियों द्वारा देर तक ताली बजती रही। 
इससे पूर्व सरस्वती वंदना के साथ आरंभ हुए कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत करने वालों में प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह, डाॅ. एम.ए. सिद्दीकी, डाॅ. जगजीत कौर सलूजा, डाॅ. अनिल कुमार, डाॅ. अजय सिंह, डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव शामिल थे। अतिथियों ने कार्यक्रम के दौरान इंस्पायर कैम्प से संबंधित स्मारिका का विमोचन भी किया। कार्यक्रम के दौरान छत्तीसगढ़ के राज्य गीत अरपा पैरी की धार की प्रस्तुति भी की गयी। स्वागत गान एवं राज्य गीत प्रस्तुत करने वालों में कु. निषा सिंह, कु. मृदुला चैबे, कु. श्रुति सिंह, कु. शुभांगी झा शामिल थी। राष्ट्रगान के साथ समाप्त हुए उद्घाटन सत्र में अतिथियों को स्मृति चिन्ह भी प्रदान किये गये। कल इंस्पायर कैम्प के दूसरे दिन 4 आमंत्रित व्याख्यान होंगे, जिनमें आईआईटी रूढ़की के डाॅ. धर्मेन्द्र सिंह, वर्धमान युनिवर्सिटी के जीव वैज्ञानिक डाॅ. अनुपम बसु, मुबंई की गणितज्ञ डाॅ. संजीवनी गारगी तथा नई दिल्ली के रसायन शास्त्री डाॅ. एन.बी. सिंह का व्याख्यान होगा। इसके पश्चात् सायंकालीन सांस्कृतिक संध्या का आयोजन होगा, जिसमें साईंस कालेज, दुर्ग एवं इंस्पायर कैम्प के प्रतिभागी विद्यार्थियों के साथ-साथ राष्ट्रीय स्तर की प्रख्यात नृत्यांगना डाॅ. सरिता श्रीवास्तव द्वारा कत्थक नृत्य की प्रस्तुति शामिल होगी। 

इंस्पायर प्रोग्राम का रंगारंग उद्घाटन - मानवता के बिना विज्ञान अधूरा Photos