Photo Gallery

Photo Gallery: साईंस कालेज, दुर्ग में नव प्रवेशित विद्यार्थियों हेतु इंडक्षन कार्यक्रम आयोजित विद्यार्थी अपना अस्तित्व पहचान कर सफलता हेतु प्रयत्न करें - डाॅ. आर.एन. सिंह

 

साईंस कालेज, दुर्ग में नव प्रवेशित विद्यार्थियों हेतु इंडक्षन कार्यक्रम आयोजित विद्यार्थी अपना अस्तित्व पहचान कर सफलता हेतु प्रयत्न करें - डाॅ. आर.एन. सिंह


Venue : Govt. V.Y.T. PG AUTONOMOUS COLLEGE, DURG
Date : 30/08/2019
 

Story Details

साईंस कालेज, दुर्ग में नव प्रवेशित विद्यार्थियों हेतु इंडक्षन कार्यक्रम आयोजित
विद्यार्थी अपना अस्तित्व पहचान कर सफलता हेतु प्रयत्न करें - डाॅ. आर.एन. सिंह

विद्यार्थी अपना अस्तित्व पहचान कर सफलता हेतु प्रयत्न करें। हम अपनी क्षमता का सही मूल्यांकन न कर पाते हुए दूसरों पर आधारित निर्णय लेते है। यही हमारी असफलता का प्रमुख कारण होता है। विद्यार्थियों को महाविद्यालय में प्रवेष लेने के साथ ही अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेना चाहिए। ऐसा करने पर सफलता अवष्य प्राप्त होगी। ये उद्गार शासकीय विश्वनाथ यादव तामस्कर स्नातकोत्तर स्वशासी महाविद्यालय, दुर्ग के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने आज महाविद्यालय के रवीन्द्रनाथ टैगोर सभागार में व्यक्त किये। डाॅ. सिंह आज महाविद्यालय में स्नातकोत्तर स्तर पर नव प्रवेशित प्रथम सेमेस्टर वर्ष के विद्यार्थियों हेतु आयोजित इंडक्षन प्रोग्राम में बड़ी संख्या में उपस्थित छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रहे थे। डाॅ. सिंह ने कहा कि विद्यार्थी सर्वप्रथम अपने अस्तित्व को पहचानते हुए अपने अंदर छुपी दक्षता का मूल्यांकन करें। स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा करते हुए लक्ष्य प्राप्ति की ओर आगे बढ़े । 
इससे पूर्व इंडक्षन प्रोग्राम की उपयोगिता एवं उसके महत्व पर प्रकाष डालते हुए कार्यक्रम के संचालक डाॅ. प्रषांत श्रीवास्तव ने पावर प्वाइंट प्रस्तुतिकरण के माध्यम से विद्यार्थियों को महाविद्यालय में उपलब्ध संसाधनों एवं उनके विस्तृत उपयोग संबंधी जानकारी प्रदान की। वरिष्ठ प्राध्यापक डाॅ. एम.ए. सिद्दीकी ने शिष्ट आचरण, माता-पिता एवं शिक्षकों का सम्मान करना तथा ईमानदारी पूर्वक अध्ययन को सफलता का मूलमंत्र बताते हुए विद्यार्थियों से आव्हान किया कि वे उपरोक्त बिंदुओं का अवष्य पालन करें। आईक्यूएसी की संयोजक डाॅ. जगजीत कौर सलूजा ने अपने संबोधन में विद्यार्थियों को प्रत्येक सैध्दांतिक एवं प्रायोगिक कक्षाओं में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहकर अपनी जिज्ञासाओं के समाधान की सलाह दी। महाविद्यालय के परिवेष में स्वयं को ढाल कर अच्छा परीक्षा परिणाम लाने हेतु नियमित अध्ययन तथा ग्रंथालय का समुचित उपयोग करने की सलाह भी डाॅ. सलूजा ने दी। 
रसायन विभाग की प्रमुख तथा यूजीसी सेल की संयोजक डाॅ. अनुपमा अस्थाना ने अपने वक्तव्य में छात्र-छात्राओं को शालीन व्यवहार तथा मर्यादित वेषभूषा में महाविद्यालय आने का आग्रह किया। डाॅ. अस्थाना ने कहा कि विद्यार्थियों को होने वाली किसी भी परेषानी के निराकरण हेतु महाविद्यालय प्रषासन प्रतिबध्द है। भूगर्भषास्त्र के विभागाध्यक्ष डाॅ. एस.डी. देषमुख ने तनाव मुक्त जीवन पर बल देते हुए विद्यार्थियों को तनाव मुक्त करने संबंधी एक एक्सरसाइज करवायी। महाविद्यालय ग्रंथालय के ग्रंथपाल श्री विनोद अहिरवार ने उपस्थित विद्यार्थियों को ग्रंथालय के उपयोग, पुस्तकों का आदान-प्रदान, रीडिंग रूम का उपयोग, पूर्णतः कम्प्यूटरीकृत ग्रंथालय को उपयोग करने के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां आदि से अवगत कराया। महाविद्यालय में ग्रंथालय में प्रति सप्ताह आयोजित होने वाली क्वीज स्पर्धा की जानकारी भी श्री अहिरवार ने विद्यार्थियों को दी। वनस्पति शास्त्र के सहायक प्राध्यापक डाॅ. सतीष सेन तथा एन.एस.एस अधिकारी प्रो. जनेन्द्र कुमार दीवान ने महाविद्यालय में उपलब्ध एन.एस.एस. इकाई में प्रवेष तथा वर्षभर चलने वाले रचनात्मक कार्यक्रमों की जानकारी दी। उपस्थित विद्यार्थियों को एन.सी.सी., यूथ रेडक्रास आदि इकाईयों से संबंधित जानकारी भी प्रदान की गयी। अगामी 30 अगस्त तक चलने वाले इस इंडक्षन कार्यक्रम में स्नातक के अलावा स्नातकोत्तर स्तर पर प्रथम सेमेस्टर में प्रवेष लेने वाले विद्यार्थियों को भी समस्त जानकारी प्रदान की जावेगी। 
प्रति, 
संपादक/ब्यूरो चीफ 
दैनिक .........................दुर्ग
    इस निवेदन के साथ कि कृपया इसे जनहित में समाचार के रूप में प्रकाशित करने का कष्ट करें।

साईंस कालेज, दुर्ग में नव प्रवेशित विद्यार्थियों हेतु इंडक्षन कार्यक्रम आयोजित विद्यार्थी अपना अस्तित्व पहचान कर सफलता हेतु प्रयत्न करें - डाॅ. आर.एन. सिंह Photos